[the_ad id='16714']

नेपाल बस हादसे में 17 लोगों की मौत, 25 से ज्यादा घायल

बीरगंज/नेपाल- 06 अक्टूबर। नेपाल में ईस्ट-वेस्ट हाइवे पर बारा जिला के जीतपुर सिमरा उप महानगरीय शहर वार्ड नं. 22 के अमलेखगंज में ब्रिज संख्या तीन पर गुरुवार सुबह करीब दस बजे हुई बस दुर्घटना में 17 लोगों की मौत हो गई। इनमें से 12 लोगों की पहचान हो गई है।

नेपाल माउन्टेन टीवी की एक रिपोर्ट के मुताबिक बस (बा.अ.06-001.ख.0110) नारायणगढ़ से बीरगंज की ओर जा रही थी। बस पुल संख्या तीन स्थित सड़क से लगभग 20 मीटर नीचे गिर गई। पुलिस की प्रारम्भिक जांच में बस के अनियन्त्रित होने से उक्त हादसा हुआ है। फिलहाल 19 लोगों का भरतपुर अस्पताल में और 09 लोगों का इलाज पर्सा जिले के बीरगंज में चल रहा है। इसी तरह दो लोग का हेटाैंडा के चुरेहिल अस्पताल में, दो लोग का मकवानपुर सहकारी अस्पताल में और तीन लोग हेटौंडा अस्पताल में इलाजरत हैं।

रिपोर्ट के अनुसार बस में कुल 50 लोग सवार थे। हादसे में 17 लोगों की मौत हुई है। इनमें से 12 पहचान की गई है। मृतकों में कलैया बारा उप महानगरीय वार्ड नंबर 2 निवासी लीलाराज चौघरी (40), खैरहानी नगर पालिका वार्ड नंबर 5 जिला चितवन की नंद कुमारी (63), प्रजा चौक, कालिका नगरपालिका, चितवन के शंकर कंडेल और उनके 14 वर्षीय पुत्र सफल कंडेल, बीरगंज महानगरीय नगर-16 निवासी सोम बहादुर चौरसिया (65) व उनके निकट सबंधी मन्निदेवी चौरसिया (35), मकवानपुर जिला के हेटौंडा उप-महानगरीय नगर-7 निवासी शुभलक्ष्मी श्रेष्ठ (55), हेटौंडा 7 निवासी स्वास्तिका श्रेष्ठ (20), बारा जिला के कलैया उपमहानगर वार्ड 10 निवासी नाजलिन खातून, कलैया 10 निवासी लिजात अंसारी और 28 वर्षीय, बारा जिला के जीतपुर सिमरा निवासी 40 वर्षीय सुरेश विक शामिल हैं।

रिपोर्ट के अनुसार आठ लोगों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि अन्य ने अस्पताल ले जाने के क्रम में दम तोड़ा। घटनास्थल पर मकवानपुर जिला के एसपी वामदेव क्षेत्री, बारा जिला के एसपी होविन्द्र बोगटी,मधेश प्रदेश के पुलिस निरीक्षक सुशील आचार्य अमलेखगंज के थानाध्यक्ष श्यामबाबू यादव सहित बड़ी संख्या पुलिस मौजूद थी।

आशंका है कि कुछ लोगों का शव आसपास जंगल की झाड़ियों मे पड़ा हो सकता है, जिसकी तलाश की जा रही है। वहीं मौके पर मौजूद चिकित्सकों और अधिकारियों ने बताया कि घायल लोगों में कई की स्थिति गंभीर बनी हुई है। ऐसे में मृतकों की संख्या और बढ सकती है।

lakshyatak
Author: lakshyatak

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!