[the_ad id='16714']

सारण में बाढ़ के पूर्व तैयारियों की समीक्षा जिलाधिकारी डॉ नीलेश रामचंद्र देवरे

बिहार के सारण में जिलाधिकारी डाॅ0 निलेश रामचन्द्र देवरे के द्वारा अपने कार्यालय कक्ष से वीडियों काॅन्फ्रेंसिग के माध्यम से सभी अनुमण्डल पदाधिकारी, अंचलाधिकारी एवं प्रखण्ड विकास पदाधिकारियों के साथ बाढ़ पूर्व तैयारियों की समीक्षा की गयी सारण जिला में बाढ़ से प्रभावित होने वाले सभी 14 अंचलों के अंचालाधिकारियों को निदेश दिया गया कि बाढ़ के समय प्रयुक्त होने वाली नावों का पंजीकरण एवं उनका भौतिक सत्यापन करा ले बाढ़ के समय आपदा राहत की सभी सामग्रियों यथा – पौलिथिन सिट्स, टेन्ट का भी भौतिक सत्यापन करा लेने का निदेश देते हुए जिलाधिकारी ने कहां की मैं स्वंय जिला में रखे गये सामग्रियों का भौतिक सत्यापन करूँगा बाढ़ से प्रभावित होने वाले अंचलों में कुल 189 स्थलों को शरणस्थली के रूप में चिह्नित किया गया है उन स्थलों पर पेयजल एवं विजली की व्यवस्था देख लेने का भी निदेष दिया गया इसी के साथ सभी अनुमण्डल पदाधिकारियों को अंचलाधिकारियों के साथ तटबंधों का निरीक्षण कर लेने का निदेश दिया गया
जिलाधिकारी ने कहा कि बाढ से प्रभावित परिवार को देय आनुग्रहिक राशि के लिए उनसे संबंधित डेटा को हर हाल में 6 जून तक संबंधित पोर्टल पर अपलोड कर दिया जाय इस संबंध में एक-एक कर सभी अंचलाधिकारियों से उपलब्ध डेटा और उसकी इन्ट्री की जानकारी ली गयी
                                 जिलाधिकारी के द्वारा बताया गया कि इस जिला में लगभग 200 लोंगो की मृत्यु कोरोना के दूसरे लहर के दौरान हुयी है इसमें से अभी 40 व्यक्तियों का पैसा चार लाख रूपये की दर से आगया है जिसका भुगतान 24 घंटे के अन्दर आरटीजीएस के माध्यम से कर देने का निदेश संबंधित अंचलाधिकारियों को दिया गया
               जिलाधिकारी के द्वारा कोविड-19 टीकाकरण के कार्य में तेजी लाने के लिए सभी पर्यवेक्षकीय पदाधिकारियों के साथ प्रतिदिन बैठक कर समीक्षा करने का निदेश सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारियों को दिया गया जिलाधिकारी ने कहा कि जन-जागरूकता अभियान में स्थानीय जन-प्रतिनिधियों को भी शामिल किया जाय उन्होंने कहा कि 45 से 60 आयु-वर्ग वाले लोगों को एसएमएस के माध्यम से तथा फोन करके भी टीका लगवाने की सूचना दी जा रही है सारण जिला टीकाकरण के मामले में अभी राज्य में ऊपर के दस जिलों में शामिल है
                                 जिलाधिकारी के द्वाराहर घर नल का जल योजना की भी समीक्षा की गयी जिसमें पाया गया कि पंचायती राज विभाग के तहत् जिला में कुल 3362 वार्डो में केवल 81 वार्ड में यह योजना अभी तक अपूर्ण है अथवा इस योजना का प्रारम्भ नहीं हुआ है इसको जिलाधिकारी के द्वारा गम्भीरता से लिया गया और निदेश दिया गया यथाशीघ्र शेष वार्डों में इसे पूर्ण कराया जाय अगर मुखिया के द्वारा राशि का हस्तांतरण नहीं किया गया है तो संबंधित मुखिया एवं पंचायत सचिव के विरूद्ध प्रस्ताव भेजा जाय ताकि उनके विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज कराने का आदेश निर्गत किया जा सके
जिलाधिकारी के द्वारा प्रखण्ड विकस पदाधिकारियों को निदेश दिया गया कि इस सभी 81 वार्डाें में जाए और देखे क्या समस्या और उसका निदान निकाल कर योजना को पूर्ण करायें        
                    वीडियों काॅन्फ्रेंसिगमें जिलाधिकारी के साथ उप विकास आयुक्त, श्री अमित कुमार, अपर समाहत्र्ता विभागीय जाँच, श्री भरत भूषण प्रसाद, सिविल सर्जन, डाॅ जर्नादन प्रसाद सुकुमार, सदर एसडीओ, श्री अरूण कुमार सिंह, जिला पंचायत राज पदाधिकारी, श्री राजू कुमार सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे

lakshyatak
Author: lakshyatak

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!