[the_ad id='16714']

मध्यप्रदेश में हिन्दी से छात्र-छात्राएं करेंगे एमबीबीएस, 16 अक्टूबर से प्रथम सत्र की पढ़ाई हो रही है शुरू

भोपाल- 12 अक्टूबर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कहा कि अंग्रेजी भाषा पर निर्भरता की मानसिकता को जड़ से खत्म करने का संदेश जाना चाहिए। मध्य प्रदेश में सामाजिक क्रांति हो रही है। हिन्दी में मेडिकल की पढ़ाई की शुरुआत हो रही है। यह अंग्रेजी भाषा की गुलामी की मानसिकता को तोड़ने का कदम है।

उन्होंने कहा कि मेडिकल पाठ्यक्रम के प्रथम वर्ष की हिन्दी माध्यम की पुस्तकों का शुभारम्भ हिन्दी को स्थापित करने और आत्म-विश्वास पैदा करने का कार्यक्रम है। यह मेडिकल का नहीं भाषा का कार्यक्रम है। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह 16 अक्टूबर को हिन्दी में मेडिकल की पढ़ाई का शुभारम्भ कर एक नए युग की शुरुआत करेंगे। कार्यक्रम को विश्व का अदभुत और अनोखा कार्यक्रम बनाने के लिए सक्रियता से कार्य करें।

मुख्यमंत्री चौहान बुधवार शाम को अपने निवास कार्यालय में 16 अक्टूबर को भोपाल के लाल परेड ग्राउण्ड में हिन्दी माध्यम से मेडिकल पाठ्यक्रम के शुभारंभ की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि चिकित्सा शिक्षा, तकनीकी शिक्षा, आयुष, उच्च शिक्षा और स्कूल शिक्षा विभागों को आपस में समन्वय के साथ इस कार्यक्रम को स्मरणीय बनाने का प्रयास करना चाहिए। विभिन्न स्थानों से बच्चों को भोपाल आने के लिए बसों की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने आयोजन स्थल पर विभाग की उपलब्धियों से संबंधित प्रदर्शनी लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा सभी कॉलेजों में बच्चों को आमंत्रित कर लाइव प्रसारण दिखाया जाए। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में सोशल मीडिया में अभियान चलाया जाए। ट्वीट हों। सोशल मीडिया से सीधा प्रसारण किया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हिन्दी माध्यम से मेडिकल की पढ़ाई के संबंध में जागरूकता लाई जाए। अन्य गतिविधियों द्वारा भी हिन्दी माध्यम से उच्च शिक्षा के पाठ्यक्रम के विकास के मूल भाव को लोगों तक पहुँचाया जाए। बताया गया कि कार्यक्रम में चिकित्सा शिक्षा, तकनीकी शिक्षा, उच्च शिक्षा, स्कूल शिक्षा और आयुष विभाग के 39 हजार से अधिक छात्र-छात्राओं की भागीदारी अपेक्षित है।

lakshyatak
Author: lakshyatak

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!