[the_ad id='16714']

अब मनरेगा भ्रष्टाचार में बढ़ेगी बंगाल सरकार की मुश्किल, ED ने कई अधिकारियों को तलब किया

कोलकाता- 08 फरवरी। ईडी ने गुरुवार को पश्चिम बंगाल में मनरेगा के तहत 100 दिनों की नौकरी योजना को लागू करने में कथित अनियमितताओं के संबंध में पूछताछ के लिए राज्य सरकार के कई अधिकारियों को नोटिस जारी किया है। ईडी के एक अधिकारी ने “हिन्दुस्थान समाचार” को बताया कि इन सभी को 12 से 15 फरवरी के बीच कोलकाता के उत्तरी बाहरी इलाके में ईडी के साल्ट लेक दफ्तर में बुलाया गया है। तलब किए गए लोगों में दो पश्चिम बंगाल सिविल सेवा (डब्ल्यूबीसीएस) कैडर रैंकिंग अधिकारी हैं। उनमें से एक संचयन पान, एक डिप्टी कलेक्टर रैंकिंग अधिकारी हैं और दूसरे सुवरांग्शु मंडल भी एक डब्ल्यूबीसीएस अधिकारी हैं।

सूत्रों ने कहा कि ईडी के अधिकारियों ने शुरुआती जांच के बाद पश्चिम बंगाल में 100 दिन की रोजगार योजना को लागू करने में दो प्रकार की अनियमितताओं की पहचान की है। ईडी के एक अधिकारी के मुताबिक पहली अनियमितता इस योजना के तहत लाभार्थियों के लिए बनाए गए फर्जी जॉब कार्ड को लेकर है। दूसरी अनियमितता फर्जी जाति प्रमाण पत्र का उपयोग है, जिसका उपयोग फर्जी जॉब कार्ड बनाने की प्रक्रिया में किया गया था। मंगलवार को ही ईडी के अधिकारियों ने इस मामले के संबंध में पश्चिम बंगाल में चार अलग-अलग स्थानों पर छापेमारी और तलाशी अभियान चलाया था।

सूत्रों ने कहा कि ईडी अधिकारी शिकायतों और इनपुट मिलने के बाद मामले की जांच कर रहे थे। बुनियादी सबूत जमा करने की प्रक्रिया पूरी होने के बाद ईडी के अधिकारियों ने मंगलवार सुबह छापेमारी की। वर्तमान में, जांच का फोकस इस बात पर है कि कैसे राज्य सरकार के कर्मचारियों के एक वर्ग के साथ-साथ कुछ राजनीतिक पदाधिकारियों ने फर्जी जॉब कार्ड बनाकर अनियमितताओं को अंजाम देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। विभिन्न केंद्र प्रायोजित योजनाओं के तहत धन के उपयोग के लिए पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा उपयोगिता प्रमाणपत्र जमा न करने के बारे में कैग रिपोर्टों के सामने आने के बीच इस मामले में ईडी की कार्रवाई बेहद महत्वपूर्ण है।

lakshyatak
Author: lakshyatak

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!