[the_ad id='16714']

अबतक सरकार बनाती थी बिजली, अब लोग सौर ऊर्जा से खुद करेंगे उत्पादन: PM मोदी

नई दिल्ली- 09 अक्टूबर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को मेहसाणा के मोढेरा में विभिन्न परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। इस माैके पर उन्होंने मोढेरा गांव को भारत का पहला चौबीसों घंटे सौर ऊर्जा से संचालित गांव घोषित किया।

इस अवसर पर एक जनसभा में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अब तक सरकार बिजली पैदा करती थी और जनता उसे खरीदती थी। केंद्र सरकार का प्रयास है कि अब लोग अपने घरों में सोलर पैनल लगाएं और देश में सोलर पॉवर को बढ़ावा दें। इसमें सरकार उनकी आर्थिक मदद करने जा रही है।

उन्होंने कहा, “अब हम बिजली के लिए भुगतान नहीं करेंगे, बल्कि इसे बेचना शुरू कर देंगे और इससे कमाएंगे। कुछ समय पहले, सरकार नागरिकों को बिजली की आपूर्ति करती थी, लेकिन अब, सौर पैनलों की स्थापना के साथ, नागरिक अपनी बिजली का उत्पादन करेंगे।”

इस अवसर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बीते कुछ दिनों से सूर्य ग्राम को लेकर मोढेरा पूरे देश में चर्चा के केन्द्र में है। कोई कहता है कभी सोचा नहीं था कि सपना हमारी आंखों के सामने साकार हो सकता है। आज सपना सिद्ध होता देख रहे हैं। जिस मोढेरा को सदियों पहले मिट्टी में मिलाने के लिए आक्रांताओं ने बहुत कुछ और उसपर पर भांति-भांति के अत्याचार हुए। वो मोढेरा अब अपनी पौराणिकता के साथ-साथ आधुनिकता के लिए भी दुनिया में मिसाल बन रहा है। गुजरात का यही सामर्थ्य आज मोढेरा में नजर आ रहा है। यह गुजरात के हर कोने में मौजूद है। उन्होंने कहा कि अबतक मोढेरा सूर्य मंदिर के लिए जाना जाता था। अब इसे सौर ऊर्जा से चलने वाले गांव के नाम से भी जाना जाएगा।

उन्होंने कहा कि आज मोढेरा, मेहसाणा और पूरे उत्तरी गुजरात में विकास की नई ऊर्जा का संचार हुआ है। बिजली, पानी से लेकर रोड, रेल तक डेयरी से लेकर कौशल विकास और स्वास्थ्य से जुड़े अनेक प्रोजेक्ट्स का आज लोकार्पण और शिलान्यास हुआ है।

प्रधानमंत्री ने रविवार को जिला मेहसाणा के मोढेरा एक जनसभा की अध्यक्षता की और 3900 करोड़ रुपये से अधिक लागत की परियोजनाओं का लोकार्पण और आधारशिला रखी। प्रधानमंत्री ने मोढेरा गांव को भारत का पहला चौबीसों घंटे सौर ऊर्जा से संचालित गांव घोषित किया। सार्वजनिक कार्यक्रम के बाद प्रधानमंत्री ने मोधेश्वरी माता मंदिर में दर्शन और पूजा-अर्चना भी की।

उल्लेखनीय है कि सौर परियोजना अपनी तरह की पहली है, जो मोढेरा शहर के सूर्य-मंदिर का सौर ऊर्जा से संचालन करने के प्रधानमंत्री के विजन को साकार करती है। इसमें ग्राउंड माउंटेड सौर ऊर्जा संयंत्र तथा आवासीय और सरकारी भवनों पर 1300 से अधिक रूफटॉप सोलर सिस्टम विकसित किए गए हैं। यह सभी बैटरी ऊर्जा भंडारण प्रणाली (बीईएसएस) के साथ एकीकृत हैं। यह परियोजना इस बात का प्रदर्शन करेगी कि भारत का नवीकरणीय ऊर्जा कौशल किस प्रकार लोगों को जमीनी स्तर पर सशक्त बना सकता है।

प्रधानमंत्री के हाथ राष्ट्र को समर्पित की गई परियोजनाओं में अहमदाबाद-मेहसाणा गेज परिवर्तन परियोजना, साबरमती-जगुदान खंड का गेज परिवर्तन, तेल और प्राकृतिक गैस निगम की नंदसन भूवैज्ञानिक तेल उत्पादन परियोजना, खेरावा से शिंगोडा झील तक सुजलम सुफलम नहर परियोजना, धरोई बांध आधारित वडनगर खेरालू और धरोई समूह सुधार योजना, बेचाराजी मोढेरा-चनास्मा राज्य राजमार्ग के एक खंड को चार लेन का बनाने की परियोजना, उंजा-दसज उपेरा लाडोल (भांखर एप्रोच रोड) के एक खंड का विस्तार करने की परियोजना, सरदार पटेल लोक प्रशासन संस्थान (एसपीआईपीए) मेहसाणा के क्षेत्रीय प्रशिक्षण केंद्र का नया भवन और मोढेरा में सूर्य मंदिर की प्रोजेक्शन मैपिंग और अन्य कार्य शामिल हैं।

प्रधानमंत्री ने विभिन्न परियोजनाओं की आधारशिला भी रखी, जिनमें पाटन से गोजरिया तक राष्ट्रीय राजमार्ग-68 के एक खंड को चार लेन का बनाना, मेहसाणा जिले के जोताना तालुका के चलसन गांव में जल शोधन संयंत्र का निर्माण, दूधसागर डेयरी में नया स्वचालित मिल्क पाउडर प्लांट और यूएचटी मिल्क कार्टन प्लांट की स्थापना, जनरल अस्पताल मेहसाणा का पुनर्विकास और पुनर्निर्माण तथा मेहसाणा और उत्तरी गुजरात के अन्य जिलों के लिए पुर्नोत्थान वितरण क्षेत्र योजना (आरडीएसएस) सहित अन्य योजनाएं शामिल हैं।

lakshyatak
Author: lakshyatak

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!