[the_ad id='16714']

समाधान यात्रा का मकसद जिलों में हुए विकास कार्यों का जायजा लेना है: CM नीतीश

पटना- 05 जनवरी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को पश्चिम चंपारण (बेतिया) जिले से समाधान यात्रा का शुभारंभ किया। भ्रमण के दौरान पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि यात्रा का मकसद है कि जिलों में अलग-अलग जगहों पर जाकर देखें कि वहां पर कितना काम हुआ है। जो काम चल रहा है उसमें कितना प्रोग्रेस हुआ है। काम पूरा करने में कोई बाधा तो नहीं आयी है। समय पर काम पूरा हुआ है या नहीं। अगर काम पूरा हो गया है तो आगे और क्या होना चाहिए।

सीएम ने कहा कि यहां पर आकर हमने सभी चीजों को देखा है। यहां पर जो काम हुए है उसे देखकर मुझे अच्छा लगा। जो काम अभी पूरा नहीं हुआ है उसको लेकर हमने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि इसे जल्द से जल्द पूरा करायें। अधिकारियों को सभी जगहों पर चल रहे कार्यों को देखना है। उसे रिपोर्ट करना है। एक से डेढ़ महीने के बाद हम सभी अधिकारियों से पूछेंगे कि चल रहे विकास कार्यों का क्या हुआ, कितना प्रोग्रेस हुआ है। साथ चल रहे अधिकारी एक-एक प्वाइंट को नोट कर रहे हैं ताकि कोई चीज छूटे नहीं।

समाधान यात्रा को लेकर की जा रही राजनीति के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जिसको जो मन में आये वो बोले। हमको इससे कोई लेना-देना नहीं है। हम काफी पहले से घूमते रहे हैं। कोई पहली बार नहीं घूम रहे हैं। पहले भी हम विभिन्न जगहों पर जाकर देखते रहे हैं। देश की यात्रा करने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी हम बिहार की यात्रा पर हैं। काफी दिनों से हम बिहार में काम करवा रहे हैं। हम चाहते हैं कि अगर कहीं कुछ पेंडिंग काम है तो, उसे पूरा करवा दें। हमें आगे भी विकास का कार्य करना है। समाधान यात्रा के बाद विधानसभा का सत्र है, उसके बाद आगे इन चीजों को देखेंगे।

इससे पहले आज वाल्मीकिनगर अतिथि भवन प्रांगण में स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं नेताओं ने मुख्यमंत्री को पुष्प गुच्छ भेंटकर उनका अभिनंदन किया एवं ‘समाधान यात्रा’ प्रारंभ करने के लिए धन्यवाद दिया। समाधान यात्रा के पहले दिन मुख्यमंत्री ने प्रखंड बगहा – 2 के संतपुर सोहरिया पंचायत अंतर्गत दरुआबारी ग्राम में सरकार द्वारा चलाई जा रही विकास कार्यों का निरीक्षण किया।

निरीक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री ने समेकित थरुहट विकास अभिकरण अंतर्गत सामुदायिक भवन सह वर्कशेड का शिलान्यास एवं कार्यारंभ किया। इस क्रम में मुख्यमंत्री ने लाभुकों के बीच सतत जीविकोपार्जन योजना अंतर्गत किट का वितरण किया। दरुआबारी ग्राम में मुख्यमंत्री सोलर स्ट्रीट लाइट योजना, नल-जल योजना एवं जल-जीवन-हरियाली योजना अंतर्गत पोखरा के सौंदर्यीकरण कार्य का मुख्यमंत्री ने जायजा लिया।

दरुआबारी पोखरा के सौंदर्यीकरण कार्य का निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री ने पोखरा में मछली छोड़ा। बिहार महादलित विकास मिशन के तहत संचालित रमाबाई किशोरी समूह, दरुआबारी के छात्राओं से मिलकर मुख्यमंत्री ने उनकी समस्याएं सुनी और उसके त्वरित समाधान के लिए अधिकारियों को निर्देश दिया।

दरुआबारी ग्रामीणों की मांग पर मुख्यमंत्री ने गांव तक सुगमतापूर्वक आवागमन के लिए सड़क बनाने का अधिकारियों को निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि इस काम में विलंब नही होनी चाहिए और सड़क के दोनों तरफ वृक्षारोपण जरूर करायें।

मुख्यमंत्री ने विश्व मानव सेवा आश्रम, नरकटियागंज द्वारा दरुआबारी ग्राम में लगाए गए स्टॉल का अवलोकन किया। विश्व मानव सेवा आश्रम के संस्थापक शत्रुघ्न झा ने बुनकरों द्वारा चरखा से सूत कातने एवं खादी का कपड़ा बनाने के विषय में मुख्यमंत्री को जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आप सभी नई पीढ़ी के लोग गांधी जी को याद रखें हैं, यह बहुत अच्छी बात है।

मुख्यमंत्री ने पारसनगर में बांध की ऊंचाई और अधिक बढ़ाने का निर्देश दिया ताकि नदी तट के आसपास रहनेवाले लोग प्रभावित न हो। उन्होंने कहा कि यह काम जल्द से जल्द शुरू करायें। लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बांध को मजबूत और ऊंचा रखना काफी आवश्यक है। इसके लिए इस्टीमेट बनाकर काम को पूर्ण कराएं।

lakshyatak
Author: lakshyatak

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *