[the_ad id='16714']

सिंगर लकी अली ने कर्नाटक के डीजीपी से लगाई मदद की गुहार

जाने -माने सिंगर लकी अली ने हाल ही में कर्नाटक के डीजीपी से मदद की गुहार लगाई है। दरअसल लकी अली इन दिनों दुबई में हैं, लेकिन भारत में उनके फार्म हाउस पर कुछ भूमि माफिया अवैध रुप से कब्जा कर रहे हैं। लकी अली ने इसे लेकर पुलिस से मदद भी मांगी थी , लेकिन कोई मदद न मिलने बाद अब लकी अली ने सोशल मीडिया पर एक ओपन लेटर लिख कर कर्नाटक के डीजीपी से मदद की गुहार लगाई है। लकी अली ने लिखा-‘डिअर एवरीवन! बहुत अफसोस के साथ में इसे आपके ध्यान में ला रहा हूं…मैंने कर्नाटक के डीजीपी को जो लिखा है यह मेरी शिकायत है।

डिअर सर,

मैं मक़सूद महमूद अली हूं। दिवंगत अभिनेता महमूद अली का बेटा और लकी अली के नाम से जाना जाता हूं । फिलहाल दुबई में हूं काम के लिए, यहां इमरजेंसी है। मेरे खेत जो केंचेनाहल्ली येलहंका में स्थित एक ट्रस्ट प्रॉपर्टी है। बैंगलोर भू माफिया से सुधीर रेड्डी… (और मधु रेड्डी) द्वारा अवैध रूप से अतिक्रमण किया जा रहा है।वे अपनी आईएएस पत्नी (रोहिणी सिंधुरी) की मदद से निजी लाभ के लिए राज्य संसाधनों का दुरुपयोग कर रहे हैं। वे जबरदस्ती और अवैध रूप से मेरे खेत के अंदर आ रहे हैं। और संबंधित दस्तावेज दिखाने से मना कर रहे हैं। मेरेवकील मुझे सूचित कर रहे हैं कि कानूनी तौर पर यह पूरी तरह से अवैध है और उनके पास संपत्ति के अंदर आने का अदालत का आदेश नहीं है। क्योंकि हमारे पास पोजेशन है। और पिछले 50 सालों से यहां रह रहे हैं। दुबई जाने से पहले मैं आपसे मिलना चाहता था।लेकिन आप मौजूद नहीं थे। इसलिए हमने न्यायिक एसीपी को शिकायत दर्ज कराई। मुझे अभी तक कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली है। मेरा परिवार और छोटे बच्चे अकेले हैं। मुझे स्थानीय पुलिस से कोई मदद नहीं मिल रही है।जो वास्तव में अतिक्रमणकारियों का समर्थन कर रहे हैं। हमारी स्थिति और हमारी भूमि की कानूनी स्थिति के प्रति उदासीन है। 7 दिसंबर को अंतिम अदालत की सुनवाई से पहले झूठे कब्जे को साबित करने की कोशिश करने वालों को इस अवैध गतिविधि को रोकने के लिए मैं आपकी मदद चाहता हूं। कृपया हमारी मदद करें क्योंकि मेरे पास इसे जनता तक ले जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है।’

लकी अली के इस पोस्ट के बाद फैंस उनके समर्थन में खड़े नजर आ रहे हैं और प्रशासन से लकी अली और उनके परिवार की मदद करने की अपील कर रहे हैं।

lakshyatak
Author: lakshyatak

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *