बिहार के प्रसिद्ध सोनपुर मेले में आकर्षण का केंद्र बने ‘लैला-मजनू’ और ‘फर्स्ट लव’ के पौधे

सोनपुर- 25 नवम्बर। बिहार में सारण जिले के सोनपुर में गंगा और नारायणी के तट पर लगने वाले विश्व प्रसिद्ध मेले में इस साल कृषि विभाग के तरफ से लगाए गए स्टाल में ‘लैला-मजनू’ और ‘फर्स्ट लव’ प्लांट आकर्षण का केंद्र बना हुआ है, जिसे देखने के लिए विदेशी सैलानियों की भीड़ भी जुट रही है।

विदेशी मेहमानों एक ओर जहां मेला का लुत्फ उठा रहे हैं, वहीं विदेशी सैलानियों का कई जत्था कृषि प्रदर्शनी में भी देखे गए। इस दौरान फ्रांस और बेल्जियम से सोनपुर मेला घूमने आए सैलानियों ने कृषि प्रदर्शनी में पौधा प्रवर्धन केंद्र की ओर से लगाए गए प्रदर्शनी का निरीक्षण किया। विदेशी मेहमानों को केंद्र के रामवीर चौरसिया ने विभिन्न पौधों की जानकारी दी। पौधों के प्रति जागरूक होकर सैलानियों ने मीठा नीम, गरम मसाला, स्टीविया प्लांट, लैला मजनू, फर्स्ट लव पौधे को देखकर काफी खुश हुए।

सैलानी दो तरह के पौधे को खरीद कर अपने देश के लिए ले गए, जिसमें कड़ी पत्ता जो मेडिसिन के तौर पर मीठा नीम के नाम से भी जानते हैं और गरम मसाला देखकर काफी अचंभित हुए। इस दौरान सैलानियों ने गरम मसाले के पत्ती को टेस्ट और खुशबू को स्वयं परखा जबकि स्टीविया का पत्ती खाकर इसे मलने वाले स्वाद से काफी खुश दिखे। फ्रांस के सैलानियों ने पौधे अपने यहां लगाने के लिए खरीदारी की। सैलानियों ने बताया कि यदि पौधा अच्छा विकास किया तो फिर अगले साल भी मेले में आकर ज्यादा से ज्यादा पौधा फ्रांस खरीदकर ले जाएंगे।

इस साल 2,136 स्टाल लगाए गए हैं—

कार्तिक पूर्णिमा के दिन से शुरू होने वाले इस सोनपुर मेले में लोग कभी जानवरों और पशुओं को देखने आया करते थे लेकिन वक्त के साथ-साथ मेले का स्वरूप बदलता चला गया। इस साल सोनपुर मेला में कुल 2136 स्टाल लगाए गए हैं। इसमें सभी विभागों के उत्पाद के अलावा घरेलू उपयोग के सारे सामान बाजार में उपलब्ध है।

उल्लेखनीय है कि बिहार के सोनपुर में लगने वाले विश्व प्रसिद्ध हरिहर क्षेत्र सोनपुर मेले की अपनी एक अलग ही पहचान है। धार्मिक मान्यताओं और ऐतिहासिक स्थल होने की वजह से हिन्दू धर्म में सोनपुर का एक विशेष महत्व है। कोरोना महामारी की वजह से दो वर्षों तक यह मेला प्रभावित रहा था। ऐसे में लंबे अंतराल के बाद लगे सोनपुर मेले को लेकर इस साल अलग ही उत्साह देखने को मिल रहा है।

lakshyatak
Author: lakshyatak

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!