हिंदी मीडियम से कैसे बने IAS टॉपर- निशांत जैन

7 अगस्त :  यूपीएससी की परीक्षा देकर IAS और IPS बनना चाहते हैं तो आपको निशांत जैन के बारे में पता होना चाहिए. ये ऐसे IAS हैं जिन्होंने हिंदी मीडियम से यूपीएससी परीक्षा पास की है. निशांत जैन ने अपनी काबिलियत से दिखा दिया कि हिंदी के उम्मीदवार अंग्रेजी मीडियम के उम्मीदवारों से कम नहीं हैं. जानिए उनकी तैयारी के बारे में. फॉलो करें उनके दिए हुए ये टिप्स.

निशांत जैन ने सिविल सेवा परीक्षा 2014 में दी थी. जिसमें उन्होंने 13वीं रैंक हासिल की थी. वह यूपीएससी परीक्षा में हिंदी के टॉपर थे. बता दें, वर्तमान में निशांत राजस्थान कैडर के आईएएस अफसर हैं और माउंट आबू में एसडीएम के पद पर कार्यरत हैं. बता दें, उनका उन्होंने हिंदी लिटचेर में ही एम और एमफिल किया. वहीं बता दें, यूपीएससी परीक्षा में उनका विषय भी हिंदी था.

उन्होंने कहा अगर आप मेहनत करने वाले व्यक्ति हैं तो कोई भी ताकत आपको लक्ष्य तक पहुंचने से नहीं रोक सकती है. निशांत का कहना है कि “मैं मानता हूं कि IAS बनने का कोई फॉर्मूला नहीं है’. तैयारी के भले ही किताब एक सी हो, लेकिन हर व्यक्ति का तैयारी करने का तरीका अलग-अलग होता है.

UPSC हर बार ऐसे सवाल पूछता है जिसे देखकर उम्मीदवार टेंशन में आ जाते हैं. ऐसी स्थिति में क्या करना चाहिए. इस पर उन्होंने कहा उन्होंने कहा कि UPSC सेलेबस हर एक विषय से जुड़ा होता है. ऐसे में बस आपको सही से तैयारी करनी है. अगर आप 100 प्रतिशत तैयारी करेंगे तो कोई भी सवाल मुश्किल नहीं लगेगा

उन्होंने कहा यूपीएससी की परीक्षा की बेहतर तैयारी आप उस समय कर सकते हैं जब आप पढ़ाई के घंटे की गिनती न करें. बस ये देखिए आप क्या है कितनी जरूरी टॉपिक पढ़ रहे हैं. निशांत ने बताया कि वह तैयारी के दौरान एक ऐसी फिल्म देखते थे जिससे कुछ सीखने का मौका मिलता था.

निशांत ने बताया कि जो हिंदी मीडियम के छात्र हैं और यूपीएससी की तैयारी कर रहे हैं उन्हें पूर्वाग्रह से बचना चाहिए और हर किसी की नेगेटिविटी से बचना चाहिए. वहीं पॉजीटिव एनर्जी के साथ सेलेबस को देखते हुए उपलब्ध मेटेरियल का इस्तेमाल कर पढ़ाई करनी चाहिए.


निशांत ने बताया कि हिंदी में कुछ विषयों के लिए मेटेरियल की काफी कमी है. लेकिन जो भी मेटेरियल हिंदी में उपलब्ध है उसका खूब लाभ उठाए. उन्होंने कहा धीरे- धीरे स्थिति ठीक हो रही है मार्केट में हिंदी मेटेरियल आ रहे हैं.

उन्होंने बताया परीक्षा में जो भी विषय आपका है उसके हिसाब से बाजार से किताबों का चयन करें. लेकिन ध्यान रखें वह सभी किताबें प्रमाणिक हो. जैसे सीबीएसी, नेशनल इंस्टीट्यूल ऑफ ओपन स्कूल, इग्नू के नोट्स से आप तैयारी कर सकते हैं. ये हिंदी भाषा में उपलब्ध हैं. इसी के साथ करंट अफेयर के सरकारी वेबसाइट्स को नियमित रूप से देखते रहे. ये वेबसाइट्स हर रोज अपडेट होती है.

उन्होंने कहा यूपीएससी की ओर से भाषा को लेकर नियम सरल बना दिया गया है. आप इंटरव्यू अपने अनुसार किसी भी भाषा में दे सकते हैं. निशांत ने बताया कि यूपीएससी की तैयारी के दौरान मैंने कभी अपने शरीर के साथ कोई खिलवाड़ नहीं किया. मैं 12 बजे सो जाया करता था. सुबह समय से उठता था. इसलिए कभी भी कॉफी और चाय के सहारे अपने नींद पर काबू नहीं पाया. ये आपकी सेहत बिगाड़ते हैं आप भी ऐसा न करें.

lakshyatak
Author: lakshyatak

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!