इलेक्ट्रिकल वाहन खरीदने वालों के लिए खुशखबरी रजिस्ट्रेशन करवाना हुआ बिल्कुल फ्री, कार पर ₹4000 तक की बचत

4 अगस्त : आजकल पेट्रोल डीजल के बढ़ते दामों को देखते हुए इलेक्ट्रिकल वाहनों को खरीदने वालों की आंधी आ गई है। जहां पर पेट्रोल व डीजल की गाड़ी प्रदूषण भी बहुत करती है तथा पर्यावरण के लिए भी काफी नुकसान पहुंचती है पर्यावरण का ध्यान रखते हुए आजकल कई बड़े देशों ने अपने यहां डीजल व पेट्रोल से चलने वाले गाड़ियों पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है भारत सरकार भी इसी कोशिश में आगे बढ़ रही है और उन्होंने लोगों को राहत देते हुए इलेक्ट्रिकल व्हीकल कार रजिस्ट्रेशन या रिन्यूअल कराने का कोई भी शुल्क ना लेने का फैसला किया है इससे लोगों की जेब कम हल्की होगी उन्हें कार पर लगभग ₹4000 की बचत होगी तथा दो पहिया वाहन पर लगभग ₹1000 की बचत होगी देश में इलेक्ट्रिकल भी इलेक्ट्रिकल व्हीकल का इस्तेमाल बड़े इसलिए सरकार ने मंगलवार को एक बहुत ही महत्वपूर्ण निर्णय लिया सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय में बैटरी से चलने वाली गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट जारी करने या रिनुअल करने के लिए कोई भी सूचना नहीं लेने की घोषणा की मंत्रालय ने कहा कि इलेक्ट्रिकल व्हीकल का रजिस्ट्रेशन जारी करने के लिए ₹0 शुल्क देना होगा मतलब की कोई भी शुल्क नहीं है केंद्र सरकार के साथ-साथ इलेक्ट्रिकल वाहनों को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकारें भी कई तरह की घोषणा कर चुकी है वह बड़े-बड़े इंसेंटिव दे रही हैं ताकि लोग पेट्रोल व डीजल की गाड़ियों की तरफ ना जाकर इलेक्ट्रिकल वाहनों की तरफ अपना रुख करें

केन्द्र सरकार भी कर चुकी सब्सिडी का ऐलान
जुलाई की शुरुआत में केंद्र ने ‘फास्टर अडाप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स’ (फेम-2) स्कीम की अवधि दो साल बढ़ाकर 31 मार्च, 2024 कर दी है। पहले यह स्कीम अप्रैल, 2022 में खत्म होनी थी। अब राज्य सरकारें भी अपने-अपने स्तर पर लोगों के लिए इलेक्ट्रिक वाहन खरीदना आसान बना रही है। बीते एक महीने में महाराष्ट्र, गुजरात और राजस्थान ने ईवी इन्सेंटिव पॉलिसी लागू की है।

तीन अन्य राज्यों में पहले से यह नीति लागू है। इससे इलेक्ट्रिक दोपहिया के दाम लगभग आधे हो गए हैं। 20 राज्य इलेक्ट्रिक व्हीकल को प्रोत्साहन देने की प्रक्रिया में हैं। उनके यहां भी ऐसी नीति लागू होने के बाद ईवी की मांग बढ़ेगी।

पांच सालों में 50 लाख से ज्यादा इलेक्ट्रिक व्हीकल चलेंगी
इससे ईवी कंपनियां उत्साहित हैं। उनका कहना है कि इससे ज्यादा से ज्यादा लोग इलेक्ट्रिक व्हीकल इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित होंगे।रिवोल्ट मोटर्स ब्रांड की इलेक्ट्रिक मोटरबाइक बनाने वाली कंपनी रतन इंडिया एंटरप्राइजेस की चेयरमैन अंजलि रतन ने कहा, अगले 5 सालों में देश की सड़कों पर 50 लाख से ज्यादा इलेक्ट्रिक दोपहिया दौड़ने की उम्मीद है। राज्य सरकारों की तरफ से दिए जा रहे प्रोत्साहन की बदौलत यह लक्ष्य पहले भी हासिल हो सकता है।

  क्या है  ‘फास्टर अडाप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स’ (फेम-2) स्कीम
मार्च 2019 में, भारत सरकार ने लगभग ₹10,000 करोड़ के बजट के साथ FAME (फास्टर एडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स इन इंडिया) योजना के दूसरे फेज की घोषणा की थी। यह योजना जितनी महत्वाकांक्षी सच्चाई यह है कि यह लक्षित परिणाम प्राप्त करने में विफल रही। जिस मकसद को हासिल करने के लिए फेम को लाया गया अब पिछले दो साल के नतीजे कहते हैं कि सख्त मानदंडों और कई चुनौतियों की वजह से इलेक्ट्रिक वाहनों का बाजार मजबूत नहीं बन पाया। ऐसा लगता है कि सरकार ने अंततः इन मुद्दों पर ध्यान दिया है और इस प्रकार इलेक्ट्रिक टू- और थ्री-व्हीलर्स और बसों के लिए बेहतर गोद लेने की दरों को बढ़ावा देने में मदद करने के उद्देश्य से योजना में कुछ अपडेट की घोषणा की है।

फेम में किया गया बदलाव
भारी उद्योग मंत्रालयों के विभाग ने हाल ही में FAME 2 योजना के लिए आंशिक संशोधन के साथ एक अधिसूचना जारी की है। संशोधन अब इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों के लिए ₹15,000 प्रति किलोवाट घंटा की मांग प्रोत्साहन पेश करते हैं, जिसमें वाहनों की लागत का 40 प्रतिशत अधिकतम सीमा होती है। यह वर्तमान सब्सिडी में लगभग दोगुनी वृद्धि में तब्दील हो जाता है। यदि आप विवरण चाहते हैं, तो इसका मतलब होगा कि इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों के लिए कम से कम ₹45,000 का प्रोत्साहन जो FAME II योजना के दायरे में निर्धारित मानदंडों के अनुपालन में हैं।

अन्य FAME 2 संशोधन

इलेक्ट्रिक थ्री-व्हीलर्स के लिए: अधिसूचना बताती है कि राज्य के स्वामित्व वाली एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज (ईईएसएल) विभिन्न उपयोगकर्ता खंडों के लिए 300,000 इलेक्ट्रिक थ्री-व्हीलर्स की कुल मांग को लॉन्च करेगी।
इलेक्ट्रिक बसों के लिए: मंत्रालय नोट करता है कि अब यह 4 मिलियन से अधिक आबादी वाले शहरों, यानी अहमदाबाद, बैंगलोर, चेन्नई, दिल्ली, हैदराबाद, मुंबई, आदि को लक्षित करेगा, ईईएसएल का लक्ष्य ओपेक्स के आधार पर शेष ई-बसों की मांग को एकत्र करना है।
क्या कहना है बाजार का
बताया जा रहा है कि इस बदलाव से इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता रोमांचित हैं। रिवोल्ट मोटर्स के संस्थापक राहुल शर्मा ने कहा कि फेम इंडिया फेज 2 योजना में हाल ही में घोषित संशोधन गेम चेंजर साबित होगा। वित्तीय प्रोत्साहन में वृद्धि से श्रेणी में उत्पादों को अपनाने को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी और यह एक सुदृढीकरण है। हम इस विकास से बहुत खुश हैं क्योंकि रिवोल्ट ने बुकिंग को फिर से खोलने और नए बाजारों में विस्तार करने की योजना बनाई है।

lakshyatak
Author: lakshyatak

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!