माउंट आबू की सालगांव बांध परियोजना की प्रशासनिक स्वीकृति; राज्यसभा सांसद के प्रयासों से हुई जारी

जयपुर, 28 जुलाई। आबू पर्वत की पेयजल समस्या के स्थाई समाधान के लिए 1977 में बनाई गई सालगांव बांध परियोजना राज्य सभा सांसद, श्री नीरज डांगी के गंभीर प्रयासों से मूर्तरूप लेती नजर आ रही है। सालगांव बांध परियोजना जो 44 साल पहले 27 लाख रूपए की अनुमानित लागत से बनना प्रस्तावित थी अब परियोजना की अनुमानित लागत 250 करोड़ आंकी गयी है।

सालगांव बांध परियोजना, आबू पर्वत की पेयजल समस्या के निराकरण हेतु जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी विभाग द्वारा प्रस्तावित है। इस परियोजना में सालगांव बांध का कुल केचमेंट एरिया 777.90 हेक्टेयर है और कुल भराव क्षमता 155.56 मिलियन घनफुट आंकी गई है। बांध का कुल डूब क्षेत्र 52.55 हेक्टेयर है, जिसमें से 5.96 हेक्टेयर आरक्षित वन भूमि है तथा 46.59 हेक्टेयर निजी एवं सरकारी भूमि है।

उल्लेखनीय है कि आबू पर्वत की वर्तमान जल योजनाओं में पेयजल का मुख्य स्रोत अपर कोदरा एवं लोवर कोदरा है। जिससे प्रतिवर्ष करीब 42.62 एमसीएफटी जल उपलब्ध होता है। जबकि आबू पर्वत की वर्तमान जल मांग 85.21 एमसीएफटी (स्कूल, आर्मी, टूरिस्ट की आबादी सम्मलित करते हुए) आंकी गयी है। इस प्रकार जल मांग उपलब्ध जल से काफी अधिक है। इस परियोजना के डिजाइन वर्ष 2071 की जल मांग 147.63 मिलियन घनफुट है तथा जल संसाधन विभाग के अनुसार सालगांव बांध से 75ः डिपेंडेबिलिटी पर 140 मिलियन घनफुट पेयजल उपलब्ध होगा। इस प्रकार जल मांग के अनुरूप सालगांव बांध में जो जल उपलब्ध होगा वह सस्टेनेबल होगा।

जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी विभाग की वित्त समिति ने परियोजना की डीपीआर जल संसाधन विभाग के माध्यम से तैयार करने हेतु 31.67 लाख की वित्तीय स्वीकृति जारी की गई थी और उक्त परियोजना की नीति निर्धारण समिति द्वारा रूपये 250.54 करोड़ की प्रशासनिक स्वीकृति जारी की जा चुकी है।

इस बांध के बनने से वर्षाकाल में बहकर व्यर्थ जाने वाले पानी का सदुपयोग हो सकेगा और आबू पर्वत वासियों के लिए पेयजल का वर्ष 2071 तक स्थाई समाधान हो सकेगा। इसके अतिरिक्त बांध से क्षेत्र के किसानों को भी सिंचाई की सुविधा मिलेगी एंव वन्यजीवों को भी पीने के पानी कि किल्लत से मुक्ति मिलेगी।

इससे पूर्व भी राज्यसभा सांसद श्री नीरज डांगी ने केन्द्रीय जल आयोग तथा विश्व बैंक की सहायता से बाँध पुनर्वास एवं सुधार परियोजना के अन्तर्गत रेवदर तहसील में स्थित सुकली सेलवाड़ा बाँध का जीर्णोद्धार, आधुनिकीकरण एवं सुधार कार्य स्वीकृत करवाकर क्षेत्र के 20 गांवों में सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाने हेतु राशि 26.34 करोड़ रूपये की राशि स्वीकृति जारी करायी गयी थी

lakshyatak
Author: lakshyatak

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!